दुबई के बड़े दिल वाले सरदार ओबराय ने फिर दिखाई दरियादिली, डा.ओबराय के प्रयासों सदका 37 वर्षीय युवक की मृतक देह दुबई से वतन पहुंची

दुबई के बड़े दिल वाले सरदार ने फिर दिखाई दरियादिली

डा.ओबराय के प्रयासों सदका 37 वर्षीय युवक की मृतक देह दुबई से वतन पहुंची

ट्रस्ट अब तक 218 बदनसीबों के मृतक शरीर पहुचा चुका है परिजनों तक

माता-पिता पूरी तरह जांच पड़ताल करने के बाद बच्चों को भेजें विदेश: डा.ओबराय


दुबई , होशियारपुर /जालंधर / अमृतसर, /पटिआला 24 फरवरी (आदेश परमिंदर सिंह,राजिंदर राजन पठानकोट ब्यूरो  संधु , हरदेव मान   )

– अपने परिवारों को आर्थिक मंदहाली में से निकालने के लिए अपने घर, ज़मीनें गिरवी रख खाड़ी मुल्कों में मज़दूरी करने गए लोगों की हर मुश्किल घड़ी में रहबर बन सेवा रूपी मदद करने वाले दुबई के प्रसिद्ध कारोबारी और सरबत दा भला चेरिटेबल ट्रस्ट के सरपरस्त डा.एसपी सिंह ओबराय के प्रयासों सदका जालंधर शहर से संबंधित 37 वर्षीय बलजीत सिंह पुत्र मोहन सिंह की मृतक शरीर बुधवार को दुबई से श्री गुरु रामदास अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे अमृतसर पह़ुंची।


इस संबंधी जानकारी सांझाााकरते हुए सरबत दा भला चैरिटेबल ट्रस्ट के संस्थापक डा.एसपी सिंह ओबराय ने बताया कि बलजीत सिंह करीब पांच साल पहले अपने परिवार के आर्थिक हालात को सुधारने की कोशिश में दुबई मेहनत मज़दूरी करने के लिए गया था कि बीती 29 जनवरी को अचानक दिल का दौरा पड़ने से उसकी मौत हो गई थी।

उन्होंने बताया कि मृतक के परिवार ने सोशल मीडिया के माध्यम से उनसे संपर्क किया तो उन्होंने सारी जानकारी एकत्रित करने के बाद तुरंत उचित कागज़ी कार्रवाई मुकम्मल करवा कर भारतीय दूतावास के सहयोग से बुधवार को बलजीत सिंह का मृतक शरीर लाकर ट्रस्ट की अमृतसर इकाई के प्रधान सुखजिंदर सिंह हेर, जनरल सचिव मनप्रीत संधू,वित्त सचिव नवजीत सिंह घई और उपप्रधान शिशपाल सिंह लाडी की मौजूदगी में हवाई अड्डे से प्राप्त करके परिवार को सौंप दिया है।

उन्होंने यह भी बताया कि इस मृतक देह को भारत भेजने का खर्चा भारतीय दूतावास की तरफ से किया गया है, जबकि मृतक की पत्नी, जोकि मृतक देह के साथ आज ही दुबई से भारत आई है, उसकी टिकट का ख़र्च सरबत दा भला चैरिटेबल ट्रस्ट की तरफ से किया गया।

डा.ओबराय ने बताया कि वह अब तक 218 बदनसीब लोगों के मृतक शरीर वारिसों तक पहुंचा चुके हैं। उन्होंने अभिभावकों से अपील करते कहा कि वह पूरी तरह जांच पड़ताल करने के बाद ही अपने बच्चों को विदेशों में भेजें। हवाई अड्डे पर दुबई से पहुंची मृतक की पत्नी सुनीता के अलावा मृतक के भाई सरबजीत सिंह, संदीप सिंह, चाचा दविंदर सिंह, जीजा सतनाम कुमार आदि बलजीत की मृतक देह लेकर आने पर डा. एसपी सिंह ओबराय का तहेदिल से शुकराना करते बताया कि मृतक शरीर भारत लेकर आना उनके बस की बात नहीं थी। उन्होंने कहा कि डा.ओबराय की वजह से ही बलजीत के बुज़ुर्ग मां-बाप,छोटे -छोटे बच्चों और रिश्तेदारों को उसके अंतिम दर्शन नसीब हुए हैं। काबिले गौर हो कि इस मृतक देह को भारत भेजने के लिए डा.ओबराय के निजी सचिव बलदीप सिंह चाहल ने भी विशेष भूमिका निभाई है।

Related posts

Leave a Comment